समझिए इंग्लैंड का मनोवैज्ञानिक वार

373


ए आर आज़ाद

लीच के प्रति जो उम्मीद ज़ाहिर की है, उसके भी मायने हैं। श्रीलंका के ख़िला़फ पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड की जीत के सूत्रधार डॉम बेस और लीच की स्पिन जोड़ी बनी थी। स्वान को इसलिए क़द्दावर स्पिनर माना जाता है क्योंकि उन्होंने अपने जीवन के अब तक के 255 के टेस्ट विकेटों में 60 विकेट बंग्लादेश, श्रीलंका और भारत में लिए हैं।

भारत और इंग्लैंड के बीच सीधी जंग की बिसात बिछ गई है। यह जंग दो टीम के बीच की है। इस मैच के ज़रिए इंग्लैंड भारत पर मनोवैज्ञानिक वार करके जीत का मैदान मार लेना चाहता है। ज़ाहिर सी बात है कि इंग्लैंड के सामने भारतीय टीम विशालकाय रूप में खड़ी है। एक ऐसी दीवार बनकर खड़ी है जिसे आसानी से गिराकर जीत का कप अपने नाम कर लेना बहुत आसान नहीं है। इसलिए इंग्लैंड के क़द्दावर पूर्व ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने अपनी इंग्लैंड टीम को एक मंत्र सुझाया है। उस मंत्र के ज़रिए चेन्नई में होने वाले टेस्ट को इंग्लैंड के हिस्से में कर लेने की छटपटाहट दिखने लगी है। इंग्लैंड को उम्मीद है कि लीच इस मैच में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं।

दरअसल इस पूर्व दिग्गज ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने लीच के प्रति जो उम्मीद ज़ाहिर की है, उसके भी मायने हैं। श्रीलंका के ख़िलाफ़ पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड की जीत के सूत्रधार डॉम बेस और लीच की स्पिन जोड़ी बनी थी। स्वान को इसलिए क़द्दावर स्पिनर माना जाता है क्योंकि उन्होंने अपने जीवन के अब तक के 255 के टेस्ट विकेटों में 60 विकेट बंग्लादेश, श्रीलंका और भारत में लिए हैं।

दिग्गज ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने कहा है कि मैं ख़ुद से कहता था कि गेंद स्पिन होगी और खेल के मैदान में भी गेंद स्पिन करती थी। उनका मानना है कि खेल जीतने के लिए धैर्य की ज़रूरत होती है और गेंदबाज़ों को भी बल्लेबाज़ की तरह धैर्यवान बनना चाहिए।

ग़ौरतलब है कि भारत और इंग्लैंड के बीच पांच फ़रवरी से चार टेस्ट मैंचों की श्रृंखला खेली जाएगी। इस मैच के बाद पांच टी-ट्विेंटी अंतर्राष्ट्रीय और तीन एक दिवसीय मैच खेले जाने हैं।