बंगाल में खेला होबे

725

आख़िर जीत गए शुभेंद्रु

पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री और बीजेपी की फ़ज़ीहत

ए आर आज़ाद

पश्चिम बंगाल चुनाव का परिणाम देश के सामने है। पश्चिम बंगाल के चुनाव के सारे एक्जिट पोल धराशाही हो गए। सिर्फ दूसरा मत ने अपने एक्जिट पोल में पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस को 205 सीट आने की संभावनाएं जताई थी। और यह संभावना 2 मई को परिणाम में बदल गई।

यह हार बीजेपी के लिए भी सांप-छुछुंदर वाली स्थिति बन गई है। उसे अब न उगलते बन रहा है और न ही निगलते बन रहा है। बीजेपी, अमित शाह, नरेन्द्र मोदी किस तरह से इस हार को पचा पाएंगे, इसकी राह ढ़ूंढ़ने में पूरी बीजेपी लगी हुई है।

हमने अपने बंगाल की हर रिपोर्ट में बीजेपी खासकर प्रधानमंत्री को यह ध्यान दिलाने की कोशिश की, कि आप जिस तरह से पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के किला को भेदन की कोशिश कर रहें है, उसका तरीका गलत है। आपने जिस तरह से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अपने चक्रव्यूह में घेरने की कोशिश की, और आपकी उस चक्रव्यूह को ममता बनर्जी ने बड़ी शालीनता के साथ भेदने में कामयाब रही। और उनके दुर्ग पर, आपने जो कब्जा जमाने का ग़लत तरीके से दुस्साहस किया, उसे भी उन्होंने अपने हौसलों और अपनी ताब से आपके दुस्साहस को कड़ा मुक़ाबला दिया। आप बेसहारे की तरह मैदान हारकर जनता के सामने रुश्वा हो गएं। एक प्रधानमंत्री को किसी पार्टी का इस तरह प्रधानमंत्री होना, देश की जनता को गवारा नहीं हुआ। और पश्चिम बंगाल की जनता को तो क़तई गवारा नहीं हुआ।

देश और पश्चिम बंगाल की बेटी ममता बनर्जी को, अभिमन्यू की तरह, बीजेपी के चक्रव्यूह को भेद कर, बंगाल के क़िले को बचाते हुए मां, माटी और मानुष की ताक़त पूरे देश को दिखाने के लिए दूसरा मत परिवार की ओर से बधाई।