शिक्षक राष्ट्र निर्माताः श्रीमती शीतल देवा

68

माउंट लिट्रा व किडजी बीआरटीएस के बच्चों ने विद्यालय परिसर में विभिन्न सांस्कृतिक आयोजनों के बीच शिक्षक दिवस धूमधाम से मनाया । इस अवसर पर बच्चों ने खुद शिक्षण कार्य में भाग लेकर शिक्षकों के त्याग और समर्पण को बारीकी से जाना। इस मौके पर विद्यालय की प्राचार्या श्रीमती शीतल देवा ने कहा कि आज के बच्चे ही कल के उज्जवल भारत के भविष्य हैं। और इस भविष्य को सींचने का काम शिक्षक प्राचीन काल से करते आ हैं। इसलिए शिक्षक के मानव जीवन में योगदान को जितना भी बताया जाए, कम है। शिक्षक मानव जीवन के साथ-साथ एक राष्ट्र निर्माता भी हैं। आज की भारतीय युवा विश्व पटल पर अंतरिक्ष, विज्ञान, इंजीनियरिंग, शोध, मेडिकल आदि हर क्षेत्र में विश्व के महाशक्तियों के समक्ष भारत को ला खड़ा किया है तो इसका पूरा श्रेय हमारे महान शिक्षकों को जाता है उन्होंने इस अवसर पर सभी शिक्षकों को पुरस्कृत कर सम्मानित भी किया। और बच्चों को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

विद्यालय के निदेशक डॉ मनीष देवा ने कहा कि विद्यार्थी और शिक्षक दोनों का दायित्व है कि वह इस महान परंपरा को इस आधुनिक दौर में भी बेहतर ढंग से समझे और एक अच्छी समाज के निर्माण में अपना सहयोग प्रदान करें। शिक्षक व्यक्ति को शिक्षा प्रदान करने के साथ-साथ उनके व्यक्तित्व और चरित्र का भी निर्माण करते हैं। एक शिक्षक ही किसी मनुष्य को इंसान बनाता है शिक्षक का स्थान सर्वोपरि है।सभी के जीवन में  सफलता के पीछे एक शिक्षक का हाथ होता है।

बेगूसराय से एस आर आज़मी की रिपोर्ट