बंगाल में ज़मीनी हक़ीक़त दीदी के साथ

348

 

ए आर आज़ाद

6 अप्रैल को संपन्न हुए चुनाव के साथ केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी, असम, केरल और  तमिलनाडु का चुनाव संपन्न हो गया। पांच राज्यों में से एक राज्य पश्चिम बंगाल ही बचा है जहां अभी और पांच चरणों के मतदान होने हैं। पश्चिम बंगाल में 6 अप्रैल को तीसरे चरण का चुनाव संपन्न हो गया। पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण में 77.68 प्रतिशत वोटिंग हुई। यानी दूसरे चरण से 2.11 फीसदी वोटिंग कम हुई। इसका मतलब  यह हुआ कि केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल में जिस तरह से पैरा मलेट्री फोर्स एवं अन्य पुलिस की बटालियन से पश्चिम बंगाल को पाट दिया है, उसके कुछ जनता में घबराहट दिखी है। और वे मौजूदा सरकार के पक्ष में वोट करने में नाकाम साबित हुए। इसका मतलब है कि तीसरे चरण के मतदान में ममता को दो से तीन सीटों का नुक़सान हो सकता है। और इस बिना पर अगर आप देखें तो ममता बनर्जी को इस तीसरे चरण में सीधे तौर पर दो से तीन सीटों का नुक़सान हो सकता है। अगर पश्चिम बंगाल में हर फेज में

मतदान में कमी आती है तो जाहिर है अनुपातिक तौर पर ममता बनर्जी की पार्टी को हर चरण में दो से तीन सीटों का नुकसान होगा। यानी ममता बनर्जी को आने वाले पांच चरणों में कुल 20 सीटों का नुकसान होगा। यानी ममता बनर्जी को महज 190 सीटों पर ही संतोष करना पड़ेगा। लेकिन फिर भी वो 148 के जादुई आंकड़े से 32 सीटों पर आगे रहेंगी। यानी हर स्थिति और विषम से विषम परिस्थिति में भी ममता बनर्जी की सरकार पश्चिम बंगाल में बनने जा रही है। चाहे वह 211 से अधिक सीट इसबार लाएं या 190 से कम। लेकिन वोटरों का मिजाज यही बताता है कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी की दाल इसबार गलने वाली नहीं है।  तीसरे चरण का मतदान भी कह रहा है कि ममता को लाने की जिद में पश्चिम बंगाल लगा हुआ है।

दरअसल तीसरे चरण के मतदान में भी महिला मतदाता केंद्र में रहीं। महिलाओं ने जमकर वोटिंग किया। महिलाओं की यह वोटिंग किसके हक में जाएगा, यह सब को पता है। इसलिए जितना भी हायतौबा और आसमानी किला फतह करने का दावा बीजेपी कर ले। जनता अपनी जिद पर अड़ी है कि पश्चिम बंगाल में अपनी दीदी को ही लाएंगे। अगर बीजेपी पश्चिम बंगाल की जगह असम पर इतना ध्यान और दिमाग़ लगाती तो हो सकता था कि उसकी वहां सरकार बनी रहती लेकिन अब तो सारा ध्यान बंगाल पर केंद्रित करने के कारण असम की जनता भी बीजेपी से खुद को ठगी महसूस कर रही है। वोटिंग प्रतिशत तो यही बता रही है। जाहिर है तब रिजल्ट भी यही बताएगा।